Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है बकरीद की नमाज का तरीका (Bakrid Ki Namaz Ka Tarika) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है –

bakrid ki namaz ka tarika, bakrid ki namaz ka tarika for ladies, bakrid ki namaz ka tarika in english, bakrid ki namaz padhne ka tarika, bakrid eid ki namaz ka tarika, bakrid eid namaz ka tarika, bakrid namaz tarika, bakrid namaz tarika in hindi, बकरीद की नमाज का तरीका, बकरीद की नमाज कैसे पढ़े, बकरीद की नमाज क्या है, बकरीद की नमाज का वक्त,

तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ, और अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे अगर आपके दोस्त को भी Bakrid Ki Namaz Ka Tarika के बारे मे नहीं पता तो,

उसे भी इसका इल्म होगा इससे आपको भी सवाब मिलेगा और साथ हि मुझे भी। और अगर आपको हमारा काम अच्छा लगता है तो हमें Subscribe भी जरूर कर लेँ जिससे आपको Notification मिलती रहें…

Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका

नमाज का नामकुल रकात
Bakrid Ki Namaz (बकरीद की नमाज)कुल रकात 2 होती है, और ये नमाज वाजिब है।
– Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका –
Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका
– Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका –

Bakrid Ki Namaz Ki Niyat Ka Tarika | बकरीद कि नमाज कि नियत

दोस्तों Bakrid Ki Namaz Ki Niyat आप इस तरह करेंगे ” नियत कि मैंने 2 रकात ईद उल अज़हा कि वाजिब 6 जायज़ तकबीरों के वास्ते अल्लाह तलाह के पीछे इस इमाम के रुख मेरा काबा शरीफ के तरफ अल्लाहु अकबर “ इमाम साहब तीन तकबीर कहेंगे पहली तकबीर मे आपको अल्लाहु अकबर कहते अपने हाथों को कानों तक उठाना है और फिर छोड़ देना है,

फिर इमाम साहब फिर एक तकबीर बोलेंगे तो आप फिर से आपने हाथों को कानों तक उठा कर छोड़ देंगे फिर तीसरी बार आपको नियत बांध लेनी है, तो ये था Bakrid Ki Namaz Ki Niayat का तरीका।

Bakrid Ki Namaz Ki Rakat | बकरीद कि नमाज कि रकात

दोस्तों ईद और बकरीद कि नमाज़ 2 रकात की होती है, ये वाजिब नमाज़ है, ये नमाज़े ईद-गह मे पढ़ी जाती है, मस्जिद मे भी ये नमाज़ पढ़ी जा सकती है अगर कोई खुला इलाका मुमकिन न हो तब या फिर कोई और मसले हो तो इस हाल पे मस्जिद मे भी ईद की नमाज़ पढ़ी जाती है।

Bakrid Ki Namaz Padhne Ka Tarika | Bakrid Ki Namaz Ka Tarika

तो दोस्तों अब जानते है कि Bakrid Ki Namaz Padhne Ka Tarika सबसे पहले तो आपको बा वुजू होना चाहिए (वुजू करने का सही तरीका जाने)

और दोस्तों आपको गुसल का भी ध्यान रखना चाहिय कि आप नहाते वक्त गुसल भी जरूर करें क्यूकि बिना गुसल के नमाज़ नहीं होती है, तो दोस्तों जब आप बकरीद के दिन ईद-गह पहोच जाएं तो फिर इमाम साहब थोड़ी देर आपको ईद के बारे मे कुछ हदीसे बताएंगे फिर इसके बाद नमाज़ का वक्त हो जाएगा आपको नमाज़ के लिए खड़े होना है फिर नियत करना है,

जैसा मैंने आपको नियत का तरीका अभी ऊपर बताया है बस उसी तरह आपको नियत करना है, मैं फिरसे आपको एक बार बता देता हूँ,

Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका
– Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका –

” नियत कि मैंने 2 रकात ईद उल अज़हा कि वाजिब 6 जाईड तकबीरों के वास्ते अल्लाह तलाह के पीछे इस इमाम के रुख मेरा काबा शरीफ के तरफ अल्लाहु अकबर “ इमाम साहब तीन तकबीर कहेंगे पहली तकबीर मे आपको अल्लाहु अकबर कहते अपने हाथों को कानों तक उठाना है और फिर छोड़ देना है,

फिर इमाम साहब फिर एक तकबीर बोलेंगे तो आप फिर से आपने हाथों को कानों तक उठा कर छोड़ देंगे फिर तीसरी बार आपको नियत बांध लेनी है,

फिर जब आप नियत बांध लेंगे तो फिर आपको सना पढ़ना है सना पढ़ने के बाद अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़ेंगे फिर आप खामोश रहेंगे और इमाम साहब सूरहे फातिहा पड़ेंगे, और कुरान कि कोई सूरह पड़ेंगे (इसे कीरत करना भी कहते है) फिर इसके बाद

इमाम साहब अल्लाहु अकबर कहते हुए रुकु मे जाएंगे तो आपको भी रुकु मे जाना है और रुकु कि तसबीह पढ़ना है  “सुबहाना रब्बिल रब्बीयल अज़ीम” आपको इसको 3 बार या फिर इससे ज्यादा भी आप पढ़ सकते है,

इमाम साहब समी अल्लाहु लिमन हमीदह कहते हुए खड़े होंगे तो आपको “रब्बाना वा लकल-हम्द” कहना है और सीधे खड़े हो जाना है फिर सिजदे मे जाना है और सिजदे कि तसबीह पढ़नी है “सुबहाना रब्बिल अला” आपको इसको 3 बार या फिर इससे ज्यादा भी आप पढ़ सकते है,

फिर इमाम साहब अल्लाहु अकबर कहते हुए खड़े होंगे तो आपको भी खड़े होना है, फिर दूसरी रकात भी उसी तरह होगी जिस तरह पहली हुई लेकिन इसमे रुकु मे जाने से पहले फिरसे 3 तकबीर होगी इमाम साहब अल्लाहु अकबर कहेंगे आपको अपने हाथों को कानों तक उठाना है और छोड़ देना है,

फिर दूसरी बार भी ऐसे हि करना है, तीसर बार भी ऐसे हि करना है, फिर इसके बाद आपको बिना अपने हाथों को कानों तक उठाए अल्लाहु अकबर कहते हुए रुकु मे चले जाना है, और फिर उसी तरह रुकु और सिजदा जिस तरह पहली रकात मे किया, और फिर दोनों सिजदा करने के बाद आपको अत्तहियात पढ़ना है फिर दरूद शरीफ पढ़ना है फिर दुआ-ए मसूरा पढ़ना और सलाम फेर देना है,

फिर इसके बाद इमाम साहब खुतबा पड़ेंगे और दुआ होगी, दुआ होने के बाद आप एक दूसरे से गले मिलेंगे और ईद कि मुबारक बाद देंगे।

तो दोस्तों ये था Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद कि नमाज कैसे पड़ते है

Bakrid Ke Din Kya Karna Chahiye | बकरीद के बार मे कुछ बातें

Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका
Bakrid Ki Namaz Ka Tarika | बकरीद की नमाज का तरीका

दोस्तों ईद हम मुसलमान साल मे 2 बार मनाते है, और हमारा असल त्योहार ईद हि है, लेकिन इसमे भी इबादत होती है सिर्फ अच्छा खाना और पहेनना ईद नहीं है, हमे ईद के दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए और पाक साफ हो कर फजर की नमाज़ भी पढ़नी चाहिय और फिर कोशिश करें कि जब आप ईद कि नमाज़ पढ़ने जा रहें हो तो आपको थोड़ा जल्दी जाने कि कोशिश करनी चाहिए,

कुछ बाते है जो आपको करनी हि चाहिए –

सुबह जल्दी उठना और नहा कर पाक साफ होना, मिसवाक का करना और खुसबू भी हमे लगानी चाहिए क्यूकि ये सुन्नत है।

और दोस्तों ईद कि नमाज़ मे खुतबा नमाज़ के बाद होता है जैसे जुमा की नमाज़ मे पहले खुतबा होता है लेकिन इसमे नमाज़ के बाद होता है।

बहुत से भाई ईद के दिन भी नमाजों को छोड़ देते है जो कि बहुत गलत बात है, आपको नमाज़ से मुहब्बत होनी चाहिय

यह भी पड़ें –

Conclusion

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको Bakrid Ki Namaz Ka Tarika (बकरीद कि नमाज कैसे पड़ते है) और इसको पढ़ने का सही तरीका और साथ हि कुछ और बातों के बारे मे मालूम हो गया होगा अगर आपको कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है, और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुशी होगी,

और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा, अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू। FACEBOOKTWITTERINSTAGRAM

FAQ’s (सवाल जवाब)

Q. ईद उल अजहा की नियत कैसे बांधी जाती है?

Ans. ” नियत कि मैंने 2 रकात ईद उल अज़हा कि वाजिब 6 जाईड तकबीरों के वास्ते अल्लाह तलाह के पीछे इस इमाम के रुख मेरा काबा शरीफ के तरफ अल्लाहु अकबर “

Q. बकरा ईद की नमाज घर पर कैसे अदा करें?

Ans. दोस्तों ये नमाज़ घर पर अदा नहीं हो सकती ये नमाज़ सिर्फ मस्जिद या ईद-गह मे हि अदा होगी जमात के साथ।

Q. ईद उल अधा की नमाज कितनी रकात है?

Ans. ईद उल अधा की नमाज 2 रकात होती है और ये वाजिब नमाज़ है।

Q. बकरीद की नमाज कितने बजे है?

Ans. दोस्तों हर शहर मे अलग अलग वक्त मुकार्र होता है काही जगह ये सुबह 6 बजे हो जाती है तो कई जगह 7 बजे से लेके 9 बजे तक।

Q. बकरीद की नमाज कितने रकात की होती है?

Ans. बकरीद की नमाज 2 रकात कि होती है और ये वाजिब नमाज़ होती है।

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

Leave a Comment