Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है दुआ ए कुनूत हिन्दी मे (Dua E Qunoot In Hindi) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है –

dua e qunoot in hindi, dua e qunoot in hindi tarjuma, dua e qunoot in hindi english, dua e qunoot in hindi meaning, dua e qunoot in hindi and urdu, dua e qunoot in hindi image, dua e qunoot in hindi writing, दुआ ए कुनूत, दुआ ए कुनूत हिंदी में, दुआ ए कुनूत अरबी में, दुआ ए कुनूत का तर्जुमा, दुआ ए कुनूत की फजीलत, दुआ ए कुनूत हिंदी

तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ, और अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे अगर आपके दोस्त को भी Dua E Qunoot In Hindi के बारे मे नहीं पता तो,

उसे भी इसका इल्म होगा इससे आपको भी सवाब मिलेगा और साथ हि मुझे भी। और अगर आपको हमारा काम अच्छा लगता है तो हमें Subscribe भी जरूर कर लेँ जिससे आपको Notification मिलती रहें…

Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत क्या है

Note: दोस्तों हम सबको कोशिस करनी चाहिए की कोई भी दुआ हो अरबी भाषा मे ही पढ़नी चाहिए बैरहाल अगर आप से अरबी नहीं आती तब आप अपनी सहूलियत के हिसाब से हिन्दी, इंग्लिश मे पढ़ सकते है।

दुआ का नाम कब पढ़ी जाती है 
दुआ-ए-क़ुनूत (Dua e qunoot)ईशा की वित्र नमाज़ मे पढ़ी जाती है। 
– दुआ का नाम दुआ ए कुनूत –

तो दोस्तों दुआ-ए-क़ुनूत (Dua e Qunoot) एक दुआ है बाकी दुआ की तरह, इस दुआ को ईशा की वित्र नमाज़ में पढ़ा जाता है, और वित्र की तीसरी रकात में सूरह फातिहा पढने के बाद पढ़ा जाता है, और यह दुआ वित्र की नमाज़ मे पढ़नी वाजिब है, अगर यह दुआ आपको याद नहीं है तो मैंने निचे बताया है की इसके अलावा दूसरी कोसनी दुआ पढ़ सकते है।

Dua E Qunoot In Hindi | दुआ ए कुनूत हिन्दी मे

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े। 

Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे
– Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे –
  • अल्ला हुम्मा इन्ना नस्ता ईनु क व नास्तगफिरुका व  नु’अ मिनु बिका व नतावक्कलु अलाइका वा नुस्नी अलैकल खैर 
  • व नशकुरुक वला नकफुरुका व नख्लऊ व नतरुकु मैंय्यफ-जुरूक
  • अल्ला हुम्मा इय्याका नअबुदु व लका नुसल्ली व नस्जुदु व इलैका नस्आ
  • व नहफिज़ु व नरजू रहमतका व नख्शा अज़ाबका इन्ना अज़ाबका बिल क़ुफ़्फ़ारि मुलहिक़

दोस्तों अगर आपको छः कलमा (Six Kalma In Hindi) पढ़ना है हिन्दी तर्जुमा के साथ तो आप यहा से पढ़ सकते है नीचे पोस्ट कि लिंक दी हुई है ।

पहला कलमा | दूसरा कलमा | तीसरा कलमा | चौथा कलमा | पाँचवा कलमा | छठा कलमा

Dua e Qunoot In English | जानिए दुआ ए कुनूत इंग्लिश में

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।   

Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे
– Dua e Qunoot In English | जानिए दुआ ए कुनूत इंग्लिश में –
  • Allah Humma Inna Nasta eeno ka Wa Nastagh firuka Wa Nu minu Bika Wa Nata Wakkalu Alaika Wa Nusni Alaikal Khair
  • Wa Nashkuruka Wala Nakfuruka Wa Nakhla-oo Wa Natruku Mainyyaph-Jurook
  • Allah Humma Iyaka Nabudu Walaka Nusalli Wa Nasjud Wa Ilaika Nas Aa
  • Wa Nah fizu Wa Narju Rahma Taka Wa Nakhshaa Azaa baka Inna Azaa baka Bil Kuffari Mulhikk. 

यह भी पड़े – Azan Ke Baad Ki Dua In Hindi | जाने अजान के बाद कि दुआ

Dua e Qunoot in Arabic | दुआए क़ुनूत अरबी में

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े। 

Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे
– Dua e Qunoot in Arabic | दुआए क़ुनूत अरबी में –

اَللَّهُمَّ إنا نَسْتَعِينُكَ وَنَسْتَغْفِرُكَ وَنُؤْمِنُ بِكَ وَنَتَوَكَّلُ عَلَيْكَ وَنُثْنِئْ عَلَيْكَ الخَيْرَ وَنَشْكُرُكَ وَلَا نَكْفُرُكَ وَنَخْلَعُ وَنَتْرُكُ مَنْ ئَّفْجُرُكَ اَللَّهُمَّ إِيَّاكَ نَعْبُدُ وَلَكَ نُصَلِّئ وَنَسْجُدُ وَإِلَيْكَ نَسْعأئ وَنَحْفِدُ وَنَرْجُو. رَحْمَتَكَ وَنَخْشآئ عَذَابَكَ إِنَّ عَذَابَكَ بِالكُفَّارِ مُلْحَقٌ

Dua e Qunoot Ka Tarjuma in Hindi

तो दोस्तों चलिए अब जानते है दुआ ए क़ुनूत का हिंदी तर्जुमा अल्लाह अज्जावजल आप को और हमें इसका सवाब अता फरमाए

तर्जुमा –अल्लाह, हम आप से मदद चाहते हैं ! और आप से माफी मांगते हैं आप पर ही ईमान रखते हैं और आप  पर भरोसा करते हैं, और आपकी बहुत अच्छी तारीफ करते हैं और आपका शुक्र अदा करते हैं और आपकी ना सुकरी नहीं करते और अलग करते हैं और छोड़ते हैं, उस शख्स को जो तेरी नाफरमानी करें। 

ऐ अल्लाह, हम आपकी ही इबादत करते हैं और आपके लिए ही नमाज़ पढ़ते हैं और सजदा करते हैं और आपकी  तरफ दौड़ते और झपटते हैं और आपकी रहमत के हकदार हैं और आपके आजाब़ से डरते हैं, और बेशक आपका आजाब़ काफिरों को पहुंचने वाला है। 

अगर दुआए क़ुनूत याद नहीं हो तो क्या पढ़े ?

Dua E Qunoot In Hindi | जानिए दुआ ए कुनूत हिन्दी मे
– अगर दुआए क़ुनूत याद नहीं हो तो क्या पढ़े –

दोस्तों अगर आपको को दुआए क़ुनूत (Dua e Qunoot) याद नही हो तो आपको पहले उसे याद करने कि कोशिश जरूर करनी चाहिए, और जब तक आपको याद नहीं है तो ईशा की वित्र नमाज़ मे दुआए क़ुनूत कि जगह ये दुआ भी पढ़ सकते है,

رَبَّنَا آتِنَا فِي الدُّنْيَا حَسَنَةً وَفِي الآخِرَةِ حَسَنَةً وَقِنَا عَذَابَ النَّارِ

हिन्दी में –

आप ये पढ़ सकते है “रब्बना आतिना फिद दुनिया हसन तव वफिल आखिरति हसन तव वकिना अज़ाबन नार”

English मे –

आप ये पढ़ सकते है “Rab Bana Aatina Fid-Dunya Hasana tanw Wa-fil Aakhirati Hasana tanw Waqina Azaa ban Naar

तर्जुमा ऐ हमारे रब्, हमें इस दुनिया में नेकी और जो हमेशा हमेश जी ज़िंदगी आख़िरत है उसमे भी नेकी दे और हमें जहन्नमं के अज़ाब से बचाना।

Conclusion 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको दुआए कुनूत के मुतालिक पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे WhatsApp Channel | Telegram Channel सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है,

और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुसी होगी और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा,

अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू। 

यह भी पड़ें –

Dua E Qunoot In Hindi से जुड़े सवाल जवाब -FAQ’s

Q. दुआए क़ुनूत कब पढ़ी जाती है?

Ans. दुआए क़ुनूत ईशा की वित्र नमाज़ मे पढ़ी जाती है। 

Q. क्या दुआए क़ुनूत पढ़ना जरूरी है?

Ans. दुआए क़ुनूत ईशा की वित्र नमाज़ मे पढ़ना वाजिब है।

Q. दुआए क़ुनूत भूल गए तो क्या नमाज़ होगी ?

Ans. वित्र कि  नमाज़ मे दुआए क़ुनूत ( Dua e Qunoot ) पढना भूल गए हैं तो फिर आपको सजदए सहव करना पड़ेगा।

Q. दुआ ए कुनूत की फजीलत

Ans. दुआ ए कुनूत को ईशा की वित्र नमाज़ के साथ पढ़ने से इंशाअल्लाह घर मे बरक्कत आती है, इस दुआ को पढ़ने से आपकी इल्म मे इजाफा होता है, और साथ ही इसको पढ़ने की की फजीलत है।

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

Leave a Comment