02. Dusra Kalma in Hindi | Dusra Kalma Shahadat in Hindi

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है दूसरा कलमा (Dusra Kalma in Hindi) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है – 

Dusra Kalma in Hindi, dusra kalma in hindi image, doosra kalma in hindi, dusra kalma tarjuma in hindi, dusra kalma shahadat in hindi, दूसरा कलमा इन हिंदी, तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ।

Dusra Kalma In Hindi | दूसरा कलमा शहादत हिंदी में

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।

कलमा कलमे का नाममायने (मतलब)
दूसरा कलमाशहादतगवाही देना
02. Dusra Kalma in Hindi | Dusra Kalma Shahadat in Hindi
– Dusra Kalma in Hindi | Dusra Kalma Shahadat in Hindi –

दोस्तों Dusra Kalma Shahadat In Hindi मे इस तरह है – “अशहदु अल्लाह इल्लाह इल्लल्लाहु, व अशदुहु अन्न मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु”।

दोस्तों अगर आपको छः कलमा (Six Kalma In Hindi) पढ़ना है हिन्दी तर्जुमा के साथ तो आप यहा से पढ़ सकते है नीचे पोस्ट कि लिंक दी हुई है ।

Pahla Kalmaलिंक
Doosra Kalmaलिंक
Teesra Kalmaलिंक
Chautha Kalmaलिंक
Panchwa Kalmaलिंक
Chatha Kalmaलिंक
6 Kalma in Hindi & English

Dusra Kalma Shahadat In English | दूसरा कलमा शहादत इंग्लिश में

02. Dusra Kalma in Hindi | Dusra Kalma Shahadat in Hindi
– Dusra Kalma Shahadat In English –

दोस्तों Dusra Kalma Shahadat In English मे इस तरह है – “Ashahado An Laa Ilaaha Illal Wa Ash Hadu Anna Mohammadan Abdu Hoo Wa Rasoolohoo”।

Dusra Kalma Shahadat In Arabic | दूसरा कलमा शहादत अरबी में

02. Dusra Kalma in Hindi | Dusra Kalma Shahadat in Hindi
– Dusra Kalma Shahadat In Arabic –

दोस्तों Dusra Kalma Shahadat In Arabic मे इस तरह है –

اشْهَدُ انْ لّآ اِلهَ اِلَّا اللّهُوَ اَشْهَدُ اَنَّ مُحَمَّدً اعَبْدُهوَرَسُولُه

Dusra Kalma Shahadat In Hindi Tarjuma

दोस्तों Dusra Kalma शहादत का तर्जुमा इस तरह है – मैं गवाही देता हु कि अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं है, वो अकेले है और अल्लाह का कोई शरीक नहीं है, और मैं गवाही देता हु कि नबी ए करीम ﷺ सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के प्यारे वा नेक बन्दे है और यह आखिरी रसूल है”।

दूसरा कलमा पढ़ने के क्या फायदे ?

दोस्तों कलम ए शहादत को पढ़ने के फायदे बहुत से हैं –

  • Dusra Kalma शहादत को सुबह-सुबह पढ़ने से आपका पूरा दिन अच्छा गुजरता है, और आपके अंदर खुसुशी तौर पर पोसिटिव (अच्छी) Energy रहती है।
  • दूसरा कलमा शहादत को जो बंदा अच्छी ढंग से पड़ेगा उस पर अल्लाह की तरफ से सारे गुनाहों को माफ कर दिया जाएगा।
  • दूसरा कलमा शहादत को पढ़ने से रोजी मे बरकत होना शूरु हो जाती है और आपका काम अच्छा होने लगता है।
  • दूसरा कलमा शहादत को Daily पढ़ने से अल्लाह का साया हमारे जानिब बना रहता है, और हम जो भी नेक काम करते है उसमे बरक्कत होती है।

तो मेरे दोस्तों ये थे कुछ फायदे इस कलमा के पढ़ने के और आपको बता दूँ की इसके अलावा भी और कई सारे फायदे होते है, हमे कोशिश करनी चाहिए कि हम कालीमात को रोज पड़ें और बा वुजू के साथ पढ़ना चाहिए इनशाल्लाह अल्लाह इसका सवाब हमे जरूर देंगे।

Conclusion

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको पहला कलमा (Dusra Kalma Shahadat in Hindi) के बारे मे और हिंदी में तर्जुमा (Dusra Kalma Shahadat in Hindi Tarjuma) इसकी पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है,

और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुशी होगी, और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा, अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू। FACEBOOK, TWITTER, INSTAGRAM

FAQs (सवाल जवाब)

Q. दूसरा कलमा कौन सा है?

Ans. दूसरा कलमा का नाम है “शहादत” जो की इस तरह है – “अशहदु अल्लाह इल्लाह इल्लल्लाहु, व अशदुहु अन्न मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु”।

Q. तीसरा कलमा कौन सा है?

Ans. तीसरा कलमा का नाम है “तमजीद” जो की इस तरह है – “सुब्हानल्लाही वल हम्दु लिल्लाहि वला इलाहा इलल्लाहु वल्लाहु अकबर वला हौल वला कुव्वता इल्ला बिल्लाहिल अलिय्यील अज़ीम”।

Q. कलमा कैसे पढ़ते हैं?

Ans. दोस्तों बेहतर यह है आप किसी भी दुआ या कलमा को पढ़ने से पहले “अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम” पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।

Q. पहला कलमा क्या होता है?

Ans. पहला कलमा का नाम है “तय्यब” जो की इस तरह है – “ला इलाहा इल्लाहु मुहम्मदुर्र सूलुल्लाह”।

Q. इस्लाम के कितने अरकान हैं?

Ans. दोस्तों आपको बात दूँ कि इस्लाम की बुनियाद पांच अरकानों पर टिकी है। कलमा के पढ़ना, नमाज पढ़ना, रोज़े का रखना, जकात का देना और अपनी हलाल कमाई से हज करना।

Q. कुरान के लेखक कौन हैं?

Ans. दोस्तों कुरान अल्लाह कि तरह से नजिल हुई पाक किताब है जिसे जैद बिन साबित (655 ई.) कुरान को इकट्ठा करने वाले पहले शकस थे, क्योंकि वो हमारे और आपके प्यारे नबी ﷺ सलल्लाहो अलैहि वसल्लम के जरिए पढ़ी गई आयतों और सूरतों को लिखा लिया करते थे। इसी तरह से ज़ैद बिन साबित ने ही आयतों को एक-एक करके कुरान को मुक्कमल एक किताब बनाया और पूरी हुई कुरान फिर हज़रत अबू बकर को मिली थी।

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

Leave a Comment