Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है गुस्ल करने का सही तरीका (Ghusl Ka Tarika In Hindi) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है –

ghusl karne ki niyat hindi mein, ghusl karne ki niyat in urdu, ghusl karne ki niyat in hindi, गुसल करने की नियत, गुसल करने की नियत बताइए, गुसल करने की नियत बताओ, गुसल करने की नियत हिंदी में, गुसल करने की नियत की दुआ, ghusl ki niyat urdu, ghusl ki niyat, ghusl ki niyat hindi

तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ, और अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे अगर आपके दोस्त को भी Ghusl Ka Tarika In Hindi के बारे मे नहीं पता तो,

उसे भी इसका इल्म होगा इससे आपको भी सवाब मिलेगा और साथ हि मुझे भी। और अगर आपको हमारा काम अच्छा लगता है तो हमें Subscribe भी जरूर कर लेँ जिससे आपको Notification मिलती रहें…

Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका

दोस्तों चलिए अब जानते है Ghusl Ka Tarika in Hindi के बारे में। इंशा अल्लाह ये पोस्ट आपको जरूर पसन्द आएगी। जब आप गुस्ल करने जा रहे तो आप अपने मन मे ये नियत कर लीजिए की आप पाक साफ होने जा रहे गंदगी से, बस इसी तरह आपको इसकी नियत करनी है।

Ghusl Karne Ki Niyat Hindi Mein | Ghusl Ka Tarika

1. नियत करनासबसे पहले नीयत करना है। मतलब कि दिल में यह इरादा कीजिए कि नापाकी से पाक होने और अल्लाह की रज़ा और सवाब के लिये गुस्ल कर रहा हूँ न कि बदन साफ़ करने के लिये।
2. हाथों को धोनाफिर दोनों हाथों को गट्टों समेत तीन बार धोना है।
3. इस्तिन्जे की जगह को साफ करना इस्तिन्जा करने की जगह साफ करना फिर चाहे वहा  नपाकी लागि हो या न लागि हो। 
4. बदन की गंददगी को साफ करनाबदन पर जहाँ पर भी नापाकी हो उसको धो कर साफ करना है।
5. फिर वुजू करना  आप वुजू करें जैसे नमाज़ पढ़ने से पहले वजू करते है वैसे ही वजू करे लेकिन अपने पाओ को ना धुलें। हाँ अगर आप किसी ऊँचे चीज पर बैठ कर Ghusl यानि नहा रहें है तो आप अपने पाओ को भी धूल सकते है|
6. पूरे बदन पर पानी डालना और मलना अपने पूरे बदन पर अच्छी तरह पानी डालना और मलना। 
7. दाहिने (Right) कंधे पर पानी बहानातीन बार दाहिने (Right) कंधे पर पानी बहाइये।
8.  बायें (Left) कंधे पर पानी बहाना तीन बार बायें (Left)  कंधे पर पानी बहाइये 
9. पूरे बदन पर तीन बार पानी डालना सिर समेत पूरे बदन पर तीन बार पानी डालना
10. पांव धोना  अगर आपने वुजू के दौरान पांव नहीं धोया था तो अब पांव धो लीजिए।  
11. पूरे बदन पर हाथ फेरना आखिर में पूरे बदन पर हाथ फेरिए और मलिए। 
– Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका –

तो ये था Ghusl Ka Tarika इस तरीक़े से ग़ुस्ल करने पर मुकम्मल पाक हो जाएंगे अगर ग़ुस्ल में कुछ मुस्तहब अमल भी किये जायें तो इसके सवाब को और बढ़ाया जा सकता है।

यह भी पड़ें –

Ghusl Ke Mustahib | ग़ुस्ल के मुस्ताहिब

Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका
– Ghusl Ke Mustahib | ग़ुस्ल के मुस्ताहिब –
  • ज़ुबान से नीयत करना।
  • नहाते वक़्त क़िबले (पश्चिम) की तरफ़ रुख़ न करना अगर कपड़े पहने न हों।
  • ऐसी जगह नहाना कि किसी की नज़र न पड़े।
  • मर्द खुली जगह पर नहाए तो नाफ़ से घुटने तक का जिस्म पर कोई कपड़ा या तहबंद बाँधकर नहाए जबकि औरत का खुली जगह पर नहाना सही नहीं है।
  • ग़ुस्ल में किसी तरह की बात न करना।
  • नहाने के बाद तौलिया या रूमाल से बदन पोंछना।
  • सारे बदन पर तरतीब से पानी बहाना।

ग़ुस्ल में कितने फर्ज हैं? | Ghusl Ke Farz Kya Hai

Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका
– ग़ुस्ल में कितने फर्ज हैं? | Ghusl Ke Farz Kya Hai –

ग़ुस्ल के फ़र्ज़ क्या है –

  1. कुल्ली करना = कुल्ली ऐसे करना कि मुँह के अन्दर के हर एक हिस्से पर पानी जाए काही भी बाल बराबर भी सूखा न रहे। 
  2. नाक में पानी डालना = नाक के दोनों हिस्सों में जहाँ तक नर्म जगह है वहाँ तक पानी को साँस के साथ ऊपर चढ़ाना और अगर नाक के अन्दर रेंठ सूख गई है तो उसका छुड़ाना फ़र्ज़ है।
  3. पूरे बदन पर पानी बहाना = सिर के बालों से पाँवों के तलवों तक जिस्म के हर हिस्से पर पानी बहाना फ़र्ज़ है।

गुसल में कितनी सुन्नत है | Ghusl ki sunnatein

Ghusl Ka Tarika In Hindi | गुस्ल करने का सही तरीका
– गुसल में कितनी सुन्नत है | Ghusl ki sunnatein –

गुसल में 5 सुन्नतें हैं –

  1. दोनों हाथ गट्टों तक धोना। 
  2. इस्तिंजा करना और बदन पर जिस जगह नापाकी लगी हो उसे धोना। 
  3. नापाकी दूर करने की नियत करना। 
  4. पहले वुजू कर लेना। 
  5. सारे बदन पर तीन बार पानी बहाना। 

Conclusion 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको Ghusl Ka Tarika के बारे मे और पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको अभी भी गुस्ल का तरीका मे बारे मे कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है, और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुशी होगी,

और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा, अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू। FACEBOOKTWITTERINSTAGRAM

Frequently Asked Questions (FAQs)

Q. ग़ुस्ल में कितने फर्ज हैं? | Ghusl Ka Tarika Me Kitne Farz hai?

Ans. ग़ुस्ल मे 3 फ़र्ज़ हैं: (1) कुल्ली करना. (2) नाक में पानी डालना. (3) पूरे बदन पर पानी डालना की कोई  भी जगह ख़ुश्क / सूखी न रह जाये.

Q. ग़ुस्ल के बाद body का कुछ हिस्सा बाकी रह जाए तो क्या करे ?

Ans. ग़ुस्ल करने के बाद अगर यह मालूम हो जाये कि आपके जिस्म का कोई हिस्सा सूखा रह गया है तो ग़ुस्ल फिर से करना पड़ेगा।

Q. ग़ुस्ल किसे कहते कहते हैं?

Ans. ग़ुस्ल अरबी शब्द है और इसका मतलब नहाना है लेकिन जैसा इस्लामिक तरतीब है उस तरह। 

Q. क्या गुस्ल के बाद वुजू की ज़रुरत है?

Ans. नहीं, अगर आपने ऊपर बताये गए सुन्नत तरीके के मुताबिक़ पहले वुजू किया फिर गुस्ल किया या अगर वुजू नहीं किया सिर्फ गुस्ल ही किया तो अब बाद में वुजू की ज़रुरत नहीं है इसलिए कि जिस्म के तमाम हिस्से को पाकी हासिल हो गयी |

Q. गुस्ल खाने में पेशाब करना कैसा है?

Ans. गुस्ल खाना अगर कच्चा है और उस में पानी जमा हो जाता है तो वहां पेशाब मकरूह तहरीमी ( हराम के क़रीब ) है और हदीस मुबारक में है कि अगर कोई गुस्ल खाने में पेशाब करता है तो उसे भूलने और वस्वसों का मर्ज़ हो सकता है इसलिए इससे बचना चाहिए |

Q. नंगे गुस्ल करना कैसा है?

Ans. अगर ऐसी जगह गुस्ल कर रहे हैं जहाँ किसी की नज़र नहीं पड़ती है तो नंगे गुस्ल करना दुरुस्त है लेकिन फिर भी बेहतर यही है कि तहबन्द वगैरा बाँध कर ही गुस्ल करे|

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

Leave a Comment