5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है कजा नमाज पढ़ने का तरीका (Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है –

qaza namaz padhne ka tarika, qaza namaz padhne ka tarika bataiye, qaza umri namaz padhne ka tarika, umar qaza namaz padhne ka tarika, fajr qaza namaz padhne ka tarika, qaza namaz padhne ka aasan tarika, isha ki qaza namaz padhne ka tarika, asar ki qaza namaz padhne ka tarika, 

कजा नमाज पढ़ने का तरीका, कजा नमाज कैसे पढ़े, कजा नमाज कैसे पढ़ी जाती है, कजा नमाज कैसे अदा करें, कजा नमाज का टाइम, कजा नमाज की नियत कैसे करें, कजा नमाज का वक्त, कजा नमाज का तरीका, कजा नमाज कैसे पढ़ते हैं, कजा नमाज फजर टाइम

 तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ, और अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे अगर आपके दोस्त को भी Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika के बारे मे नहीं पता तो,

उसे भी इसका इल्म होगा इससे आपको भी सवाब मिलेगा और साथ हि मुझे भी। और अगर आपको हमारा काम अच्छा लगता है तो हमें Subscribe भी जरूर कर लेँ जिससे आपको Notification मिलती रहें…

5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े

5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े
– 5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े –

Qaza Namaz Ki Niyat | Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े

दोस्तों कजा नमाज कि नियत आप उसी तरह करेंगे जैसे आप दूसरी नमाज कि नियत करेंते है, जैसे फ़जर की नमाज कि नियत उसी तरह से आपको इस नमाज की भी नियत करनी है,

आप कजा नमाज कि नियत इस तरह करेंगे जैसे मान लीजिए कि आपकी जोहर की नमाज़ कजा हो गई है और आप जोहर कि कजा नमाज पढ़ना चाहते है तो आप नियत करेंगे “नियत करता हूँ मैं 4 रकात नमाज फर्ज कजा जोहर वास्ते अल्लाह-त-आला के रुख मेरा काबा शरीफ कि तरफ अल्लाहु अकबर।” अल्लाहु अकबर कहते हुए आप अपने दोनों हाथों को कानों तक उठा कर पेट पर बांध लीजिए।

दोस्तों एक जरूरी बात है जो मैंने पुराने पोस्ट मे भी बताया है वो जान लीजिए कि नियत को जुबान से बोलना जरूरी नहीं है, आप अपने मन मे इरादा करेंगे उससे आपकी नमाज़ हो जाएगी, यही है नमाज कि नियत।

दोस्तों बस इसी तरह आप दूसरी कजा नमाजों कि नियत भी कर सकते है जैसे आपकी फजर की नमाज, या ईशा कि नमाज कजा हो गई है तो आप इनको भी ऐसे पढ़ सकते है और ऐसे हि नियत कर सकते है जैसे अभी मैंने आपको बताया।

NOTE: दोस्तों सबसे पहले जान लीजिए के इस्लाम मे हर मुस्लिम बालिग पर 5 वक्त कि नमाज़ फर्ज है जिनके नाम ये है –

No.नमाज़ का नामलिंक 
1Fajar Ki Namaz (फजर की नमाज)पूरा पड़ें
2Johar Ki Namaz (ज़ोहर की नमाज़)पूरा पड़ें
3Asar Ki Namaz (असर की नमाज)पूरा पड़ें
4Magrib Ki Namaz (मगरीब की नमाज़)पूरा पड़ें
5Isha ki namaz (ईशा की नमाज़)पूरा पड़ें
Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | जानिए कजा नमाज कैसे पढ़े
5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े
– Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज पढ़ने का तरीका –

Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े इसके बारे मे कुछ बातें

दोस्तों क़ज़ा नमाज आप बिल्कुल उसी तरह पढ़ सकते है जिस तरह आप फजर की नमाज, जोहर की नमाज, असर की नमाज, मगरीब की नमाज और ईशा की नमाज पढ़ते है बिल्कुल उसी तरह आप कजा नमाज पढ़ सकते है सबसे पहले आपको नियत करना होगा इसके बारे मे मैंने अभी ऊपर बताया है,

दोस्तों क्यूकि आप लोगों के मन मे आता होगा की कजा नमाज कैसे पढ़े, हम मान लेते है कि आपको जोहर कि कजा नमाज पढ़नी है तो आप जोहर कि नमाज कि नियत करेंगे जैसा मैंने ऊपर बताया हि है,

फिर आप नियत बांध कर सना पड़ेंगे –

“सुबहान कल-ला हुम्मा व बि हमदिका व-त बारकस्मुका व-त आला जददुका वला इलाहा गैरुक”।

फिर सना पढ़ कर आप अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़ेंगे फिर सूरह फातिहा पड़ेंगे –

  • आल्हामदुलीलही रब्बिल आलमीन
  • अर रहमा निर रहीम
  • मलिकि यौमिद्दीन
  • इययाक न अबुदु व इय्याका नस्तईन
  • इहदिनस सिरआतल मुस्तकीम
  • सिरताल लजीना अन अमता अलय हिम
  • गैरिल मॅगडूबी अलय हिम व लद दालीन। (आमीन)

ये पढ़ने के बाद आपको कुरान कि कोई सूरह या आयत पढ़नी है जो आपको याद हो फिर आपको रुकु मे जाना है और रुकु कि तसबीह पढ़नी है,

“सुबहाना रब्बिल रब्बीयल अज़ीम” आपको इसको 3 बार या फिर इससे ज्यादा भी आप पढ़ सकते है फिर ये पढ़ने के बाद आप समी अल्लाहु लिमन हमीदह कहते हुए आप एकदम सीधे खड़े हो जाएंगे,

सीधे खड़े होने के बाद आपको सीधे सजदे में जाना है, दोस्तों फिर सजदा आपको इस तरह करना है कि, सजदे पर जाते वक्त आपका घुटना जमीन पर लगेगा फिर आप अपने हाथ जमीन पर रखिए और फिर आपकी नाक जमीन पर रखेगी और फिर आपका माथा लगेगा,

ऐसे आपको सजदा करना है और आपको फिर सजदे मे ये तसबीह पढ़नी है – “सुबहाना रब्बिल अला” आपको इसको 3 बार या फिर इससे ज्यादा भी आप पढ़ सकते है,

आपको 2 सिजदे करने है फिर सिजदा करने के बाद आपको अल्लाहु अकबर कहते हुए दूसरी रकात के लिए खड़े हो जाएंगे और फिर जैसे पहली रकात पढ़ी उसी तरह दूसरी पढ़नी है लेकिन इसमे सिजदा करने के बाद आपको बैठे रहना है,

और अत्तहियात पढ़ना है और फिर अल्लाहु अकबर कहते हुए खड़े हो जाना है फिर तीसरी रकात पढ़नी है,

और चौथी रकात मे फिर अत्तहियात पढ़ना है और इसके बाद दरूद शरीफ और दुआ-ए-मसूरा पढ़ना है और सलाम फेरना है इस तरह आपकी कजा नमाज हो जाएगी अगर आप जोहर की नमाज के बारे मे और अच्छे से जानना चाहते है तो इस पर क्लिक करें

दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आप जान गए होंगे कि कजा नमाज कैसे पढ़े।

5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े
– Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज पढ़ने का तरीका –

Qaza Namaz Ka Time Kab Tak Rahta Hai | कजा नमाज़ का वक्त | कजा नमाज कैसे पड़ें

दोस्तों कजा नमाज का कोई वक्त नहीं होता है, और बहुत से भाई बहन यही सोचते है कि कजा नमाज कैसे पढ़े, इसका वक्त कब होता है? आप कभी भी कजा नमाज पढ़ सकते है।

जैसे अगर आपकी फजर की नमाज कजा हो गई है और अभी जोहर का वक्त हो रहा है तो आप पहले फ़जर कि कजा नमाज पढ़ेंगे उसके बाद हि जोहर की नमाज पड़ेंगे।

इसी तरह अगर आपकी जोहर की नमाज कजा हो गई है और आप असर की नमाज पढ़ने जा रहे है तो आपको पहले जोहर की कजा नमाज को पढ़ना होगा फिर उसके बाद हि आप असर की नमाज पढ़ सकते है।

दोस्तों कोशिश करे कि आपकी नमाज कजा न हो पाए, आप उस नमाज को उसके वक्त मे हि पड़ें, अगरचे किसी वजह से कजा हो गई तो अलग बात है।

यह भी पड़ें –

Conclusion

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको Qaza Namaz Padhne Ka Tarika (कजा नमाज कैसे पड़ें) और कजा नमाज कैसे पड़ें इसके बारे मे सारी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है, और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुशी होगी,

और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा, अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू। FACEBOOKTWITTERINSTAGRAM

FAQs (सवाल जवाब)

Q. Fajr Namaz Qaza Time ? फजर की क़ज़ा नमाज़ कैसे पढ़े?

Ans. दोस्तों आप फजर की कजा नमाज सूरज के निकाल जाने के बाद पढ़ सकते है, अगर आप जोहर कि नमाज पढ़ने जा रहे है और किसी वजह सी आपकी फजर कि नमाज कजा हो गई है तो आप जोहर कि नमाज से पहले फजर कि कजा नमाज पड़ेंगे फिर जहर कि नमाज पड़ेंगे।

Q. Zuhr Qaza Time ? जोहर की कजा नमाज का टाइम ?

Ans. दोस्तों जोहर कि कजा नमाज़ आप असर कि नमाज से पहले पढ़ सकते है लेकिन अगर आप कि 5 (पांचों) वक्त कि नमाज कजा है तो आप फिर एक एक कर के सभी कजा नमाजों को पढ़ सकते है।

Q. Isha Qaza Time ? | ईशा की कजा नमाज का टाइम ?

Ans. दोस्तों जैसे मैंने आपको बताया है कि कजा नमाज़ का वक्त नहीं होता है आप इसे कभी भी पढ़ सकते है, अगर आपकी ईशा की नमाज कजा हो गई है तो आप इसे फिर फजर कि नमाज से पहले भी पढ़ सकते है।

Q. Paancho Waqt Ki Qaza Namaz Kaise Padhen ?

Ans. दोस्तों आप पांचों वक्त कि कजा नमाज को एक एक करके रात मे पढ़ सकते है, माँ लीजिए आप किसी काम से गए है या फिर आप जो जॉब करते है उसमे आपको टाइम नहीं मिलता कि आप नमाज पढ़ सके, तो आप फिर क्या कर सकते है कि रात मे एक एक करके जो जो नमाज कजा हुई है उन्हे पढ़ सकते है।

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

6 thoughts on “5 Waqt Qaza Namaz Padhne Ka Tarika | कजा नमाज कैसे पढ़े”

  1. Assalamu Alaikum Warahmatullah, उम्मीद है कि आप खैरियत से होंगे, Allah आपको हमेशा खुश रखें । My Dear Friend नमाज़ के बारे में मैं google पर सर्च कर रहा था तो सामने आपकी वेबसाइट दिखी, आपकी वेबसाइट पर विज़िट करके माशा अल्लाह बहुत कुछ सीखने का मौक़ा मिला । Allah Aap ko Dono Jahan Me Kamyabi Ata Farmaye.

  2. Assalam alaikum
    Mai puchhna chahta hu ke agr maira johar ki namaz kja ho jati h or ashr me hme pahle kja namaz padhne ka waqt nhi mila to kya hm apni johar ki kja nmaz ashr ki namaz padhne ke bad padh skte h

  3. Bhai apne time to bats diya ab namaz ka bhi bats do please 🥺 mike samaj nay aya jese padhe sab namaze mera matlab ke fazar me kaya padhe fir johar asar magrib esa

Leave a Comment