67. Surah Mulk In Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू: दोस्तों हम इस पोस्ट में पड़ने वाले है सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ (Surah Mulk In Hindi) के बारे मे, जैसे की मुझे पता है, आप लोग ज्यादातर गूगल पे इस तरह सर्च करते है –

surah mulk hindi, surah mulk hindi tarjuma ke sath, surah mulk hindi tarjuma, surah mulk hindi mein tarjuma ke sath, surah mulk hindi mein image, सूरह मुल्क हिंदी में, सूरह मुल्क की फ़ज़ीलत, सूरह मुल्क पढ़ने की फजीलत

तो मैं आज आपके लिए इसकी पूरी जानकारी लाया हूँ, और अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे अगर आपके दोस्त को भी Surah Mulk in Hindi के बारे मे नहीं पता तो,

उसे भी इसका इल्म होगा इससे आपको भी सवाब मिलेगा और साथ हि मुझे भी। और अगर आपको हमारा काम अच्छा लगता है तो हमें Subscribe भी जरूर कर लेँ जिससे आपको Notification मिलती रहें…

Surah Mulk In Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ

सूरह नाम सूरह मुल्क ( Surah Mulk )
सूरह का नंबर 67
सूरह का मतलब बादशाहत
कुल आयतें 30
कुल रुकु 2
Surah Mulk In Hindi | सूरह मुल्क हिन्दी | Taba Rakal lazi

67. Surah Mulk Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ
– Surah Mulk In Hindi | सूरह मुल्क हिन्दी मे –

Surah Mulk In Hindi मे इस तरह है –

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।

  • तबारकल्लाजी बिआदिहिल मुल्कु वाहुवा आला कुल्ली शैनिन कादिर।
  • अल्लाजी खलाकल मौता वाल हयाता लियाबालुवाकुम अय्युकुम अहसानु अमला अहुवाल अज़ीज़ुल गफूर।
  • अल्लाजी खालका सबा समवतिन तिबका मां तारा फीस खालकिर रहमानी; मिन तफौत फरजील बसारा हाल तारा मिन फ्यूचर।
  • सुमेर जिल बसरा कररतैनी यांकलिबु इलैकल बसारु खासियम वाहुवा हसीर।
  • वलकाड ज़ाय्यान्नस समअद्दुनिया बिमासा बिहा ​​वाजा अलन्हा रुजुमल लिश्यातिन; वा तड़ना लहम अजबस सेर।
  • वलिल्लाजिना कफरू बिराबिहिम अजाबू जहन्नम या बीसल मसिर।
  • इज़ा उलकु फ़िहा समिउ लहा शाहीनव वहिया तफ़ूर।
  • ताकाडु तमय्याजु मीनल गज कुल्लमा उलकिया फ़िहा फ़ौजुन सलामाम ख़ज़ानातुहा आलम यतिकुम नज़ीर।
  • कालू बाला कद जाना नाज़िरुन फ़कज़्बाना वकुलना मा नज्जलल्लाहु मिन्न शाय अंतुमैला फ़ि जल्लिनम कबीर में।
  • वकालु लव कुन्ना नसमाऊ ऐ नकीलु मा कुन्ना फी आशाबिस सईर।
  • फतराफू बिज़्नंबिहिम फसुहकल लियाशबीस सेर।
  • इन्नाल्लाजिना यक्षौना रब्बाहम बिलगाबी लहम मगफिरतुं या अजरून कबीर।
  • या असिरु कौलकुम अविजाहरु बिही इन्नाहु अलीमम बिज्तिस सुदुर।
  • अला यलामु मन खलक वहुवल लतीफुल खबर।
  • हुवल्लाज़ी जाला लकुमुल अरजा जालुलान फ़म्शु शुल्क मनकिबिहा वकुलु मीर रिज़्किही या इलाहिन नुशुर।
  • आ अमीनटम मन फीस समाई कोई यखसिफा बिकुमुल अरजा फैजा हिया तमूर।
  • उम अमिनतुम मन फिस्माई कोई युर्सिला अलैकुम फैजा हसीबन फसतालमुना कैफा नजीर।
  • वलकाड कज्जाबल्लाजिना मिन कब्लीहिम फकीफा काना नकीर।
  • उवलम यारौ इलत्तयारी फौकाहुम सफ़तिनव वायकबिजना मा यमसीकुहुन्ना; इलार रहमानु इन्नाहु बिकुला शाइनम बसीर।
  • अम्मान हजल्लाजी हुआ जंदुल लकुम यांसुरुकुम मिन दुनीर रहमानी इनिल काफिरुना इला फी गुरुर।
  • अमास्का रिजकाहू बाल लज्जू फाई उटुविंव वा नुफुर में अम्मान हजल्लाजी यारजुकुकम।
  • आफ़ा मैन्या यमशी मुकिब्बन अला वझीहि अहदा अम्मय यमशी सवियां आला सिरातिम मुस्तकिम।
  • टोटल हुवल्लाजी अंशकुम वजाला लकुमुस समा वल अफैदता कलिलम मा ताशकुरुन।
  • टोटल हुवलालजी जराकुम फिल अरजी वैलैही तुहशरुण।
  • कुंतुम सादिकिन में वा या कुलुना माता हज़ल वाडु।
  • टोटल इननामल इलामु इंदल्लाह वेन्नामा एना नज़ीरुम्म मुबीन।
  • फलम्मा रौहु ज़ुल्फ़तन सियात वुजुहुल्लाजिना कफरू वकीला हजल्लाजी कुंतुम बिही तद्दौन।
  • अहलाकानियाल्लाहु वमम मैया अव रहिमना फैमायायुजिरुल काफिरिना मिन अजाबिल आलिम में कुल अरायतुम।
  • कुल हुवर्रहमानु अमन्ना बिही वलैही तवाकल्लाना फसताल्मुना मन हुआ फाई जलालिम मुबीन।
  • असबाहा में कुल अरायतुम में उकुम गौरान फैमायंतिकुम बिमैम मुबीन।

चारों कुल पढ़ने के फायदे जानना चाहते है तो क्लिक करनें – चारों कुल हिन्दी मे

Surah Mulk in English | सूरह मुल्क इंग्लिश मे

67. Surah Mulk Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ
– Surah Mulk in English | सूरह मुल्क इंग्लिश मे –

Surah Mulk इंग्लिश मे इस तरह है –

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े, अगर आप पढ़ चुके है तो आप सिर्फ बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।

  • Tabārākallājī biyādīhila mulku vahūvā alā kullī śa’ēnyina kadīra.
  • Allajī khalākala mautā vala hayātā liyābaluvākuma ayyūkuma ahasānu amālā ahuvala azījula gafūra.
  • Allajī khalākā sabā’ā samāvatina tibākā mā tarā fī khalakira rahamānī mina taphā’uta pharjiyila basārā hala tarā mina phutūra.
  • Sum’mara jīyila basārā karraratainī yānakalību ilā’īkala basārū khāśi’auṁ vahūvā hasīra.
  • Valāqada zayyannasa samāā’ādduniyā bimāsā bīhā vajā alanahā rūjūmala liśśayātīna va’ā tadanā lahuma ajābasa sa’īra.
  • Vālillājinā kaphārū birābbihima ājabu jahānnamā vā bīsala masīra.
  • Izā ulakū phīhā sami’ū lahā śahīkanavaṁ vahiyā taphūra.
  • Takādu tamāyyaju minala gaija kullamā ulkiyā phīhā phaujuṁ sa’ālāhuma khājānatuhā alama yātikūma najīra.
  • Kālū balā kada jā’anā najīrūṁ phakazzabanā vakulanā mā najjalalalāhū minna śaya ina antuma’illā phī jalālinaṁ kabīra.
  • Vakālu lava kunnā nasma’ū au̔ē na’ākilu mā kunnā phī asahābisa sayīra. Phātarāphu bizanambihima phasuhakala liyasahābisa sa’īra.
  • Innalalajinā yakhśaunā rabbāhuma bilagaibī lahuma magaphirātuṁ vā ajarūna kabīra.
  • Vā asirrū kaulākuma avijaharu bihī innahu alīmuma bijatisa sūdūra.
  • Alā yālāmu mana khalaqa vahuvala latīphula khabīra.
  • Huvalalazī jā’ālā lakumula arjā jalūlana phāmaśū phī manākibihā vakulū mira rijkihī vā ilaihina nuśūra.
  • Ā āmintuma mana phīsa samā’ī anya yakhasiphā bīkumula arajā pha’izā hiyā tamūra.
  • Ama amintuma manna phis’samā’ī anya yurasilā alaiyakūma pha’izā hāsibana phasātālāmūnā ka’īphā nazīra.
  • Valākada kajjaballajīnā mina qablihima phaka’īfā kānā nakīra.
  • Avālama yarā’ū ilattayarī phaukāhuma sāphphātinva vayakabijna mā yumsikuhunnā illara rahamānu innahu bikulla śai’imma basīra.
  • Am’mana hājallajī hu’ā jundula lakuma yanasurukuma mina dūnira rahamānī inila kāphirūnā illā phī gurura.
  • Am’mana hājāllajī yārjukukuma ina amasakā rijkahu bala lajju phī utuvvinva vā nufūra.
  • Aphā ma’inya yamaśī mukibbana alā vajahihi ahadā am’maya yamaśī saviyyana alā siratima mustakīma.
  • Kula huvāllajī anśā’ākuma vajā’alā lakumusa sama’ā vala apha’idatā kalīlama mā taśkurūna.
  • Kula huvalalajī zarā’ākuma phila arajī va’īla’īhi tuhaśarūna.
  • Va yā kūlūnā matā hāzala va’ādū ina kuntuma sādikīna.
  • Kula innamala ilamu indāllāha vā’innamā anā nazīrum’ma mubīna.
  • Phalam’mā rā’ūhu julaphatana sī’ata vujūhullajīnā kafārū vakīlā hajāllajī kuntuma bihī taddā’ūna.
  • Kula arā’ayatuma ina ahalakāniyallāhu vamam ma’īyā ava rahimānā phāmaiyayujīrula kāphirīnā mina ajābila alīma.
  • Kula huvārrahmānū āmannā bihī vā’alaihi tavākallanā phasātālamūnā mana hu’ā fī jālālima mubīna.
  • Kula arā’ayatuma ina asabahā mā ūkuma gaurana phamaiyāntikuma bīmā’im’ma mubīna.

Surah Mulk in Arabic | सूरह मुल्क अरबी मे

67. Surah Mulk Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ
– Surah Mulk in Arabic | सूरह मुल्क अरबी मे –

Surah Mulk अरबी मे इस तरह है –

Note: किसी भी दुआ को पढ़ने से पहले अऊज़ुबिल्लाही मिनाश सैतानिर्रजिम बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े, अगर आप पढ़ चुके है तो आप सिर्फ बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम पढ़े उसके बाद ही दुआ पढ़े।

(1) تَبَٰرَكَ ٱلَّذِى بِيَدِهِ ٱلْمُلْكُ وَهُوَ عَلَىٰ كُلِّ شَىْءٍ قَدِيرٌ

(2) ٱلَّذِى خَلَقَ ٱلْمَوْتَ وَٱلْحَيَوٰةَ لِيَبْلُوَكُمْ أَيُّكُمْ أَحْسَنُ عَمَلًا وَهُوَ ٱلْعَزِيزُ ٱلْغَفُورُ

(3) ٱلَّذِى خَلَقَ سَبْعَ سَمَٰوَٰتٍ طِبَاقًا مَّا تَرَىٰ فِى خَلْقِ ٱلرَّحْمَٰنِ مِن تَفَٰوُتٍ فَٱرْجِعِ ٱلْبَصَرَ هَلْ تَرَىٰ مِن فُطُورٍ

(4) ثُمَّ ٱرْجِعِ ٱلْبَصَرَ كَرَّتَيْنِ يَنقَلِبْ إِلَيْكَ ٱلْبَصَرُ خَاسِئًا وَهُوَ حَسِيرٌ

(5) وَلَقَدْ زَيَّنَّا ٱلسَّمَآءَ ٱلدُّنْيَا بِمَصَٰبِيحَ وَجَعَلْنَٰهَا رُجُومًا لِّلشَّيَٰطِينِ وَأَعْتَدْنَا لَهُمْ عَذَابَ ٱلسَّعِيرِ

(6) وَلِلَّذِينَ كَفَرُوا۟ بِرَبِّهِمْ عَذَابُ جَهَنَّمَ

(7) إِذَآ أُلْقُوا۟ فِيهَا سَمِعُوا۟ لَهَا شَهِيقًا وَهِىَ تَفُورُ

(8) تَكَادُ تَمَيَّزُ مِنَ ٱلْغَيْظِ كُلَّمَآ أُلْقِىَ فِيهَا فَوْجٌ سَأَلَهُمْ خَزَنَتُهَآ أَلَمْ يَأْتِكُمْ نَذِيرٌ

(9) قَالُوا۟ بَلَىٰ قَدْ جَآءَنَا نَذِيرٌ فَكَذَّبْنَا وَقُلْنَا مَا نَزَّلَ ٱللَّهُ مِن شَىْءٍ إِنْ أَنتُمْ إِلَّا فِى ضَلَٰلٍ كَبِيرٍ

(10) وَقَالُوا۟ لَوْ كُنَّا نَسْمَعُ أَوْ نَعْقِلُ مَا كُنَّا فِىٓ أَصْحَٰبِ ٱلسَّعِيرِ

(11) فَٱعْتَرَفُوا۟ بِذَنۢبِهِمْ فَسُحْقًا لِّأَصْحَٰبِ ٱلسَّعِيرِ

(12) إِنَّ ٱلَّذِينَ يَخْشَوْنَ رَبَّهُم بِٱلْغَيْبِ لَهُم مَّغْفِرَةٌ وَأَجْرٌ كَبِيرٌ

(13) وَأَسِرُّوا۟ قَوْلَكُمْ أَوِ ٱجْهَرُوا۟ بِهِۦٓ إِنَّهُۥ عَلِيمٌۢ بِذَاتِ ٱلصُّدُورِ

(14) أَلَا يَعْلَمُ مَنْ خَلَقَ وَهُوَ ٱللَّطِيفُ ٱلْخَبِيرُ

(15) هُوَ ٱلَّذِى جَعَلَ لَكُمُ ٱلْأَرْضَ ذَلُولًا فَٱمْشُوا۟ فِى مَنَاكِبِهَا وَكُلُوا۟ مِن رِّزْقِهِۦ وَإِلَيْهِ ٱلنُّشُورُ

(16) ءَأَمِنتُم مَّن فِى ٱلسَّمَآءِ أَن يَخْسِفَ بِكُمُ ٱلْأَرْضَ فَإِذَا هِىَ تَمُورُ

(17) أَمْ أَمِنتُم مَّن فِى ٱلسَّمَآءِ أَن يُرْسِلَ عَلَيْكُمْ حَاصِبًا فَسَتَعْلَمُونَ كَيْفَ نَذِيرِ

(18) وَلَقَدْ كَذَّبَ ٱلَّذِينَ مِن قَبْلِهِمْ فَكَيْفَ كَانَ نَكِيرِ

(19) أَوَلَمْ يَرَوْا۟ إِلَى ٱلطَّيْرِ فَوْقَهُمْ صَٰٓفَّٰتٍ وَيَقْبِضْنَ مَا يُمْسِكُهُنَّ إِلَّا ٱلرَّحْمَٰنُ إِنَّهُۥ بِكُلِّ شَىْءٍۭ بَصِيرٌ

(20) أَمَّنْ هَٰذَا ٱلَّذِى هُوَ جُندٌ لَّكُمْ يَنصُرُكُم مِّن دُونِ ٱلرَّحْمَٰنِ إِنِ ٱلْكَٰفِرُونَ إِلَّا فِى غُرُورٍ

(21) أَمَّنْ هَٰذَا ٱلَّذِى يَرْزُقُكُمْ إِنْ أَمْسَكَ رِزْقَهُۥ بَل لَّجُّوا۟ فِى عُتُوٍّ وَنُفُورٍ

(22) أَفَمَن يَمْشِى مُكِبًّا عَلَىٰ وَجْهِهِۦٓ أَهْدَىٰٓ أَمَّن يَمْشِى سَوِيًّا عَلَىٰ صِرَٰطٍ مُّسْتَقِيمٍ

(23) قُلْ هُوَ ٱلَّذِىٓ أَنشَأَكُمْ وَجَعَلَ لَكُمُ ٱلسَّمْعَ وَٱلْأَبْصَٰرَ وَٱلْأَفْـِٔدَةَ قَلِيلًا مَّا تَشْكُرُونَ

(24) قُلْ هُوَ ٱلَّذِى ذَرَأَكُمْ فِى ٱلْأَرْضِ وَإِلَيْهِ تُحْشَرُونَ

(25) وَيَقُولُونَ مَتَىٰ هَٰذَا ٱلْوَعْدُ إِن كُنتُمْ صَٰدِقِينَ

(26) قُلْ إِنَّمَا ٱلْعِلْمُ عِندَ ٱللَّهِ وَإِنَّمَآ أَنَا۠ نَذِيرٌ مُّبِينٌ

(27) فَلَمَّا رَأَوْهُ زُلْفَةً سِيٓـَٔتْ وُجُوهُ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ وَقِيلَ هَٰذَا ٱلَّذِى كُنتُم بِهِۦ تَدَّعُونَ

(28) قُلْ أَرَءَيْتُمْ إِنْ أَهْلَكَنِىَ ٱللَّهُ وَمَن مَّعِىَ أَوْ رَحِمَنَا فَمَن يُجِيرُ ٱلْكَٰفِرِينَ مِنْ عَذَابٍ أَلِيمٍ

(29) قُلْ هُوَ ٱلرَّحْمَٰنُ ءَامَنَّا بِهِۦ وَعَلَيْهِ تَوَكَّلْنَا فَسَتَعْلَمُونَ مَنْ هُوَ فِى ضَلَٰلٍ مُّبِينٍ

(30) قُلْ أَرَءَيْتُمْ إِنْ أَصْبَحَ مَآؤُكُمْ غَوْرًا فَمَن يَأْتِيكُم بِمَآءٍ مَّعِينٍۭ

सूरह मुल्क पढ़ने की फजीलत | सूरह मुल्क पढ़ने के फायदे

67. Surah Mulk Hindi | जानिए सूरह मुल्क तर्जुमा के साथ
– सूरह मुल्क पढ़ने की फजीलत | सूरह मुल्क पढ़ने के फायदे –

दोस्तों सूरह मुल्क को पढ़ने के कई फायदे है, इतने कि आप सोच भी नहीं सकते हैं और ऐसे हि आयतुल कुर्सी पड़ने के फायदे है अगर आप पढ़ना चाहते है तो क्लिक करे।

इस सूरह को पढ़ने से सिर्फ दुनिया मे हि नहीं बालकि जो हमेशा-हमेश कि ज़िंदगी उसमे भी आपको इसका सवाब मिलेगा, और आप बुरी चीजों से महफूज रहेंगे।

एक हदीस में, आता है कि पैगंबर मुहम्मद ﷺ सलल्लाहो अलैहि वसल्लम ने हर रात सोने से पहले सूरह मुक पढ़ने की कोशिश कि है, क्यू कि इसको पढ़ने से कब्र मे होने वाले अजाब से आप महफूज रहेंगे।

अब्द-अल्लाह इब्न मसूद से रिवायत है कि –

  • जो कोई हर रात तबारक अल्लाही बी यदीहि-मुल्क [यानी, सूरत अल-मुल्क] पढ़ता है, अल्लाह उसे कब्र की के अजाब से बचाएंगे, अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के समय हम इसे अल-मानिआ (जो हिफाजत करता है) कहते थे।

Abu Dawud 1400 and At Tirmidhi 2891
Grade: Hasan (Darussalam)
Reference: Vol. 5, Book 42, Hadith 289

अपने तिलावत करने वाले की शफाअत

रसूलुल्लाह  ﷺ सलल्लाहो अलैहि वसल्लम ने यह फरमाया – “बेशक कुरआन में 30 आयातों पर मुश्तमिल एक सूरह है, जो अपने पढ़ने वाले के लिए शिफ़ारिश करती रहेगी यहाँ तक कि इस की मग़फिरत भी कर दी जाएगी, और यह सूरह मुल्क है।

हजरत युसूफ अलैहिस्सलाम के जैसा हुस्न

हज़रत अली इब्ने अबी तालिब (अ.स.) से रिवायत है कि हज़रत मुहम्मद ﷺ सलल्लाहो अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया जो शख्स इस सूरह को पढ़ेगा वो क़यामत के रोज निजात यानि छुटकारा पाएगा, फरिश्तों के परों पर उड़ेगा और हजरत युसूफ अलैहिस्सलाम जैसा हुस्न पायगा ।

अज़ाब-ए-कब्र से निज़ात

इमाम मोहम्मद बाक़र (अ.स.) ने फ़रमाया कि सूरह मुल्क (Surah Mulk)  “सूरह मना” है इसलिए ये अपने पढ़ने वालों को अजाब-ए-कब्र (कब्र के अज़ाब) से बचाता है । तौरेत में भी इसका नाम सूरह मुल्क (Surah Mulk)  है । जो शख्स इस सूरह को शब्ह के वक्त (शाम के बाद) पढ़ेगा वो साहब-ए-बरक़त करार पाएगा और खुश रहेगा ।

कयामत के दिन खुदा की पनाह

हज़रत इमाम ज़ाफर सादिक (अ.स.) फरमाते हैं जो शख्स सुरह मुल्क (Surah Mulk In Hindi) पढ़ेगा खासकर सोने से पहले, तब वो इंसान हमेशा अल्लाह के अमान में रहेगा और क़यामत के दिन अल्लाह की पनाह (यानि हिफाज़त) में होगा।

यह भी पड़ें –

Conclusion

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की अब आपको सूरह मुल्क हिन्दी (Surah Mulk In Hindi) के बारे मे और सूरह मुल्क हिन्दी (Surah Mulk In Hindi) का तर्जुमा और इसकी पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको कुछ पूछना है तो हमे कमेन्ट करके या फिर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट मे मैसेज करके पूछ सकते है, और इस पोस्ट को जरूर शेयर करे इससे हमे बहुत खुशी होगी,

और हमारी वेबसाईट Deengyaan.in पर आते रहे, इंशा अल्लाह इसी तरह की इनफार्मेशन मै आप तक पहुचता रहूँगा, अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू।

 FACEBOOKTWITTERINSTAGRAM

FAQ’s (सवाल जवाब)

Q. सूरह मुल्क कौन से पारे मे हैं ?

Ans. सूरह मुल्क कुरान कि 29 वे पारे में है।

Q. सूरह मुल्क कहा नजिल हुई ?

Ans. दोस्तों सुरह मुल्क मक्का मैं नाजिल हुई थी और यह बहुत हि खास सूरह है।

Q. Surah Mulk Kab Padhe?

Ans. दोस्तों जैसा कि मैंने आपको बताया कि हमारे नबी इस सूरह को सोने से पहले पढ़ते थे क्यूकि ये सूरह अजाब-ए-कब्र से महफूज रखती है, बेहतर है कि आप भी इसे सोने से पहले पढे और इसके अलावा भी आप इसे पढ़ें क्यूकि इस सूरह को पढ़ने से कई फाजिलाते मिलती है।

Sharing Is Caring:

Deengyaan.in में आपका खुशामदीद है, मेरा नाम है Anwaar Aslam और मै इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। पिछले 3 वर्षों से मैं इस वेबसाइट के जरिए इस्लामी जानकारी Share कर रहा हूं। मेरा मकसद है सरल और आसान तरीके से इस्लाम की Knowledge को सब तक पहुंचाना है।

Leave a Comment